रेकॉर्ड संग्रहकर्ता सुमन चौरसिया जी के साथ गजेन्द्र खन्ना की विशेष बातचीत

Written by गजेन्द्र खन्ना
Promotion
Print

रेकॉर्ड संग्रहकर्ता सुमन चौरसिया जी के साथ साक्षात्कार

-       गजेन्द्र खन्ना

कुछ समय पहले सुमन जी के संग्रहालय को जब मैं देखने गया था तो वे मुम्बई में थे। उस दर्शन का ब्यौरा मैं पहले ही अपने लेख में कर चुका हूँ। हाल ही में जब मुझे दोबारा इन्दौर जाना था तो मैंने फिर उनसे सम्पर्क किया। किस्मत से वे इन्दौर में ही थे और मैं उनसे मिलने पहुँच गया। पहुँचने पर मुझे सीधा उनके परिवार ने ऊपर संग्रहालय में भेज दिया।

सुमनजी और गजेन्द्र संग्रहालय में

वहाँ सुमन जी के साथ मुझे चर्चा करते हुए विजय गावड़े जी एवं श्रीमती लिली डावर मिले। गावड़े जी संग्रहालय के अध्यक्ष हैं और इन्दौर के जाने माने संगीत प्रेमी हैं। संग्रहालय के कार्य में इनका विशेष सहयोग है। कई संगीत कार्यक्रमों में भी इनका बहुमूल्य सहयोग रहा है। लिली डावर जी गायिका हैं और इन्दौर वासी संजय स्पंदन के द्वारा किए गए कार्यक्रमों से जानते हैं। उन्होंने विभिन्न सभाग्रहों एवं शैक्षणिक संस्थानों में भी कार्यक्रम किए हैं। कबीर वाणी के लिए उन्हें विशेष प्रेम है जिसको ले कर इन्होंने न सिर्फ कई कार्यक्रम किए हैं पर उसे आज की शिक्षा से जोड़ते हुए एम.फिल. भी की है। दोनों से पुराने समय के गीतों एवं पुराने समय की गायिकाओं जैसे लता एवं गीता दत्त पर चर्चा हुई। लिली जी गीता पर एक कार्यक्रम करने का विचार बना रही हैं।

कुछ समय चर्चा के बाद दोनों ने विदा ली और सुमन जी से मैंने साक्षात्कार शुरु किया।

गजेन्द्र : सुमन जी, नमस्कार। आखिर हमारी मुलाकात हो ही गई।

सुमनजी: जी। मैं आपका संग्रहालय में स्वागत करता हूँ।

गजेन्द्र: आपने बहुत ही अच्छा संग्रहालय बनाया है। आपने अपना पहला रेकॉर्ड कब खरीदा था। अपने शौक के बारे में हमें बताईए।

सुमनजी: धन्यवाद। मैंने पहला रेकॉर्ड सम्भवत: 1969 के आस पास खरीदा था और धीरे धीरे मेरा शौक बढ़ता रहा। पिछले तीस से भी अधिक वर्षों में मैं देश के विभिन्न शहरों में घूम कर फिल्मी और गैर फिल्मी गीतों के रेकॉर्ड का संग्रह करता रहा हूँ। आंतरिक प्रेरणा और शौक के तहत मैंने इस ‘जुनून’ में करीब-करीब अपना सर्वस्व होम कर के एक विराट संग्रह खड़ा कर दिया है।

सुमनजी संगीतकार नीनू मजूमदार एवं उनकी पत्नी गायिका कौमुदी मुंशी को उनका रेकार्ड भेंट करते हुए

गजेन्द्र: कहाँ-कहाँ से रेकॉर्ड ले कर आए हैं आप?

सुमनजी: इन्दौर, मुम्बई के अलावा मैं कलकत्ता, दिल्ली, अलाहाबाद, लखनऊ, चंदीगढ़, जामनगर, राजकोट और वलसाड जैसी जगहों में जा कर रेकॉर्ड खरीदे हैं। इस तपस्या के चलते इस संग्रहालय में 28000 से ज़्यादा रेकॉर्ड मैं जमा कर पाया।

गजेन्द्र: इतने नाज़ुक रेकॉर्ड आप इतनी दूर-दूर से कैसे लाते थे?

सुमनजी: हाँ खासकर 78 आरपीएम रेकॉर्ड काफी नाज़ुक होते हैं। मैं इन्हें आम तौर पर तौलिए में लपेट कर सूतली से टाईट बाँध कर लाता था ताकि वह हिल न सकें। मैं कोशिश करता हूँ कि अच्छी हालत के रेकॉर्ड ही खरीदूँ। कोई बहुत ही दुर्लभ रेकॉर्ड ही मैं खराब हालत में लेता हूँ। इन्हें ध्यान से कवर में धूल मिट्टी से दूर रखना पड़ता है एवं मिट्टी के तेल से धो कर साफ रखा जाता है। इन्हें रखा भी खड़ा जाता है ताकि खराब न हो। जहाँ तक हो सके इन नियमों का पालन करने से रेकॉर्ड ठीक रहते हैं। हालाँकि समयाभाव से हमेशा ऐसा नहीं हो पाता पर इतने बड़े संग्रहालय की देख-रेख एक सतत कार्य है जो हमेशा जारी है।

गजेन्द्र: आम तौर पर देखा गया है कि कई व्यक्तियों के पास रेकॉर्ड होते हैं पर इस तरीके के संग्रहालय कम ही देखे गए हैं। संग्रहालय का विचार आपको कैसे आया?

सुमनजी: मेरे मस्तिष्क में यह प्रश्न सतत रहता था कि इस विपुल भंडार का आगे क्या होगा? इसे व्यर्थ तो नहीं जाना चाहिए, अथवा कल, मेरे न रहने पर, इसे तिल-तिल बिखर तो नहीं जाना चाहिए। अलावा इसके यह संग्रह राष्ट्र की सांस्कृतिक धरोहर है। जन-जन, बच्चे-बच्चे से इसका सम्बन्ध है, जो काव्य, संगीत और देश के समृद्ध संस्कृतिक अतीत में रुचि रखते हैं। वे गीतकार, वे संगीतकार और वे गायक-गायिकाएँ जिन्होंने राष्ट्र के दिलो-दिमाग को पावन आनंद और सांस्कृतिक सुरभि से भरा है, इतिहास की मूल्यवान धरोहर और इस नाते उनकी याद और कृतियों को, संग्रह और उसकी सहज उपलभ्यता के रूप में बचाए रखना ज़रुरी है। इस सोच के चलते जिसमें मेरे मित्रों, सहयोगियों, हितैषियों और फिल्म संगीत के मर्मज्ञ अग्रजों का सहयोग शामिल है, मैंने तय किया है कि हज़ारों की संख्या में संग्रहित फिल्मी गीतों की इन ध्वनि मुद्रिकाओं को मैं एक सुव्यवस्थित निजी संग्रहालय का स्वरूप प्रदान कर दूँ।

सुमनजी अपने संग्रहालय में (आभार: वरुण ग्रोवर)

गजेन्द्र: इससे बेहतर इस निजी संग्रह का भला क्या सदुपयोग और भविष्य हो सकता है!

सुमनजी: धन्यवाद। यहाँ मैं आपको बता दूँ कि संग्रह का ऐसा सार्वजनिकीकरण भारत में अपने किस्म का पहला कदम है। इस ‘लायब्रेरी’ की स्थापना इन्दौर में ही की क्योंकि इन्दौर मेरे पूर्वजों एवं मेरा शहर है। इसमें इन्दौर वासियों के प्रति मेरा असीम और अनकहा प्रेम भी शामिल है। ‘तेरा तुझको सौंपता, क्या लागे मोर!’ मेरा मुख्य भाव इस संस्थापन के पीछे यही है कि निजी तौर पर किया गया यह संग्रह अंतत: जन-जन को सुलभ हो जिनकी संगीत में रुचि है। इस संस्था से मैंने इस प्रश्न का उत्तर दिया है कि इस संग्रह का आगे क्या हो?

गजेन्द्र: बहुत ही सराहनीय विचार हैं आपके। रेकॉर्ड संग्रहालय का नामकरण “लता दीनानाथ मंगेश्कर ग्रामोफोन रेकार्ड संग्रहालय” कैसे हुआ?

सुमनजी: यह किसी से छुपा नहीं है जु स्वर-कोकिला सुश्री लता मंगेशकर के गीतों का मैं शुरु से ही नि:शर्त प्रशंसक रहा हूँ और रेकॉर्डों का संग्रह का यह विकट और जुनूनी कार्य उन्हीं के अनुपम, अतुलनीय गीतों कर कारण संभव हुआ। फिर खुद दीदी का जन्म स्थान इन्दौर रहा है। लिहाजा, इससे बड़ा सुखद संयोग, धन्यवाद-अर्पण और उऋण होने का प्रयास और क्या हो सकता है कि संस्था उन्हीं के नाम जाए? लताजी की ही तरह मैं उनके जन्मदाता स्वर्गीय दीनानाथजी मंगेशकर से भी अभिभूत रहा हूँ। सो मुझे गहन संतुष्टि है कि इसका नामकरण अपनी समग्रता में यूँ किया है।

सुमनजी गायिका राजकुमारी दूबे एवं उनके परिवारजनों के साथ

गजेन्द्र: इस व्यवस्था के लक्ष्य क्या हैं?

सुमनजी: इस व्यवस्था के लक्ष्य इस प्रकार हैं:-

  1. लायब्रेरी हॉल में बैठ कर संगीत प्रेमी अपने मनपसन्द गीत सुन सकें।
  2. फिल्म संगीत पर रिसर्च करने वाले व्यापक संदर्भ सामग्री के साथ अपने शोध कार्य को अंजाम दे सकें।
  3. यह प्रयास भी की जा रही है कि जानकारी पर किताबें छाप कर यहाँ उपलब्द्ध कराई जा सकें। बाबा तेरी सोन चिरय्या, सदियों में एक आशा, लता और सफर के साथी, बीते कल के सितारे एवं अस्सी के दशक का गीत कोश इसी प्रयास की एक कड़ी हैं।
  4. समय-समय पर चुने हुए रेकॉर्ड बजाए जाएँ और फिर उन गीतों पर उनकी शायरी-कविता पर, उनके संगीत और बारीकियों पर विचार-विमर्श किया जा सके।
  5. भविष्य में नियमित सदस्य बनाने का प्रस्ताव भी विचाराधीन है।

गजेन्द्र: संगीत प्रेमी इस कार्य में कैसे आर्थिक रूप से सहयोग कर सकते हैं?

सुमनजी: इस कार्य में सहयोग के इच्छुक व्यक्ति संग्रहालय के लिए सहयोग भी दे सकते हैं। मैंने संग्रहालय की स्थापना से ले कर अब तक इसके विस्तार एवं व्यवस्था में अपना तन-मन-धन लगाया। लेकिन अब मैं वृद्धावस्था एवं धन के अभाव में इस संग्रहालय की समुचित देखरेख करना मेरे लिए मुश्किल होता जा रहा है। अत: संगीत प्रेमियों एवं समाज के वरिष्ठजनों से विनम्र आग्रह है कि संगीत के इस विराट और अद्भुत संग्रह को भविष्य के लिए सहेजने और आने वाली पीढ़ी के लिए इसे बचाने में आपके सहयोग की आवश्यक्ता है। संग्रहालय की बैंक आफ इन्डिया, राऊ की शाखा में हमारे बैंक अकाउन्ट नं 881110110001553 में अपनी इच्छानुसार सहयोग राशि जमा करा सकते हैं। जो संगीत प्रेमी नेट बैंकिंग का उपयोग करना चाहते हैं वे इसी अकाउन्ट में नेफ्ट से भी राशि डाल सकते हैं। उस ब्रान्च का IFSC कोड है BKID0008811 |

गजेन्द्र: आप अभी कुछ समय में “लता समग्र” नाम की किताब भी छापने जा रहे हैं। लता जी पर पहले भी किताबें छप छुपी हैं। इस पुस्तक की क्या विशेषता होगी?

सुमनजी: इस पुस्तक की विशेषता यह है कि इसमें लता जी के गाए लगभग सभी गीतों की जानकारी होगी। 1942 से ले कर आज तक लता बाई ने जितने भी गीत गाए हैं सभी की जानकारी इसमें होगी। इसमें उनके गाए 26 भाषाओं के गीतों की जानकारी होगी जिसमें सिन्धी, हिन्दी, मराठी, गुजराती, छत्तीसगढ़ी, भोजपुरी, संसकृत, मगधी, स्वाहिली, इन्डोनीशियन, बंगाली, पंजाबी, मैथिली, डोगरी, गढ़वाली, उड़िया, तेलगू, नेपाली, कन्नड शामिल हैं। एक अन्य खास बात ये है कि इसमें अप्रदर्शित गीतों एवं गैर फिल्मी गीतों को भी शामिल किया गया है। इसमें प्रोजेक्ट नम्बर वाले लगभग 50 गीतों की जानकारी होगी जो रेकॉर्ड हो कर गुम हो गए। किशोर देसाई एवं खय्याम जैसे दिग्गजों ने इस कार्य में मुझे सहयोग दिया है। यह किताब 26 सितम्बर को भारतीय विद्या भवन, गिरगाँव चौपाटी, मुम्बई में 6 बजे रिलीज़ होगी। इसके कवर नीचे दिया गया है और सभी संगीतप्रेमियों का विमोचन में स्वागत है:-

लता समग्र

गजेन्द्र: अरे वाह, यह तो वास्तव में समग्र जानकारी वाली किताब होगी।

सुमनजी: हाँ। मुझे बस इस बात का दु:ख है कि मालवा में जन्मी लता जी से आज तक किसी ने मालवी भाषा में गीत नहीं गवाया। संगीतकारों को इस कमी को पूरा करने के बारे में सोचना चाहिए । उम्मीद करता हूँ कि यदि कोई यह करने की ठाने तो दीदी ज़रुर मान जाएँगी।

गजेन्द्र: सुमनजी, लता जी के गाए गीतों में वह कौनसे गीत हैं जिन्हे ढ़ूढ़ने में आपको सबसे अथाह प्रयास करना पड़ा?

सुमनजी: मुझे सबसे ज़्यादा प्रयास उनके बिहारी (1948) में संगीतकार रामकृष्ण शिन्दे के लिए गाए गीतों के रेकॉर्डों के लिए करना पड़ा। इसके गीतों को पाना मेरे लिए बहुत खास है। शिन्दे (जिन्होंने हेमन्त केदार नाम से भी बाद में गीत दिए थे) के परिवार को भी मैंने बाद में उनके ये गीत दिए थे क्योंकि यह उनके पास भी नहीं थे। सब्ज़े की दुर्फिशानी बहुत ही उनका मीठा गीत है जो रेकॉर्ड के दोनों ओर दिया गया था।

सुमनजी गायिका मीना कपूर के साथ

गजेन्द्र: लता जी से आप मिले हैं?

सुमनजी: हाँ कई बार। पहली बार उनसे मुलाकात 1985 में हुई थी। मैंने उन्हें बताया कि मुझे उनके गीतों से कितना प्यार है एवं उनके गीतों पर उनसे चर्चा की। तब उन्होंने मुझसे अपने कुछ गीत माँगे थे जो मैंने बाद में उन्हें कैसेट में भर कर दिए थे।

गजेन्द्र: आपकी रोड का नाम भी लता जी के नाम पर ही है। क्या प्रशासन आपकी कुछ मदद करता है?

सुमनजी: नहीं। रोड का नाम तो हमारी ग्राम पंचायत ने रखवाया है। प्रशासन की ओर से कोई सहयोग नहीं है। मेरे खुद के प्रयासों एवं संगीत प्रेमियों के सहयोग से ही यह कार्य चल रहा है।

 सुमनजी सुछीर फड़के, ललिता फड़के एवं अन्य व्यक्तियों के साथ

गजेन्द्र: हम आपके इस कार्य में कैसे सहयोग कर सकते हैं?

सुमनजी: मैंने संग्रहालय के स्थापना से ले कर अब तक इसके विस्तार एवं व्यवस्था में तन-मन-धन लगाया लेकिन अब वृद्धावस्था एवं धन के अभाव में इस संग्रहालय की समुचित देख-रेख करना मेरे लिए मुश्किल होता जा रहा है। संगीत सम्बन्धी किताबों एवं कार्यक्रमों पर भी खर्चा रहता है। अत: संगीत प्रेमियों एवं समाज के वरिष्ठजनों के सहयोग की हमेशा आवश्यक्ता रहती है। इच्छुक व्यक्ति मुझसे सम्पर्क कर सकते हैं।

गजेन्द्र: लता-आशा के अलावा आपके कौनसे पसन्दीदा गायक-गायिका हैं?

सुमनजी: वैसे तो उस दौर के सभी दिग्गज एक से एक थे पर कुछ मेरे दिल के करीब हैं। पुरुषों में मुझे मोहम्मद रफी, जी. एम दुर्रानी और एस बी बतीश बहुत पसन्द हैं। महिलाओं में मुझे राजकुमारी, ज़ीनत बेगम और गीता दत्त भी बहुत पसन्द हैं। राजकुमारी जी से तो मेरा दो-तीन बार मिलना भी हुआ है।

गजेन्द्र: अच्छा। उनके बारे में बताईए।

सुमनजी: उन्होंने कई अच्छे गीत गाए हैं। फिल्म हैदराबाद की नाज़नीन का गाया उनका गीत मुझे बहुत पसन्द है। उनसे मैं जब मिला तो वे बड़े प्यार से मिली थीं। उनकी बहू छत्तीसगढ़ की थीं (जो तब मध्यप्रदेश का ही अंग था) और मुझे वहाँ घरवालों जैसे स्वागत मिला। उन्होंने मुझे लल्लूभाई नायक के साथ गाने, महल में गाने के बारे में बताया था। उनके बाद के दिन काफी गरीबी में बीते जिसके कारण उन्हें नौशाद के कोरस में गाना पड़ा था। फिल्म निदेशक किदार शर्मा ने उनकी काफी मदद की थी।

सुमनजी संगीतकार ओ पी नय्यर के साथ

गजेन्द्र: आप अन्य किन संगीत प्रतिभाओं से मिल चुके हैं?

सुमनजी: मुझे कई फिल्मों से जुड़ी हस्तियों से मुलाकात करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। मंगेशकर परिवार और राजकुमारी जी के अलावा मैं लल्लू भाई नायक, केशक त्रिवेदी, अजीत मर्चन्ट, दिलीप ढ़ोलकिया, कौमुदी मुंशी, नीनू मजूमदार, जयराज, श्यामा, मुबारक बेगम, शमशाद बेगम, ओ पी नय्यर, कृष्णा कल्ले, भगवान दादा, महीपाल, स्नेहल भाटकर, किशोर देसाई, सुधीर फड़के, ललिता देवलकर (फड़के), सुलोचना कदम (चवाण), एस डी रयूबेन, देव आनन्द, नक्श लयालपुरी, योगेश, निदा फाज़ली, निम्मी, अनिल बिस्वास, मीना कपूर, चित्रगुप्त, आनन्द-मिलिन्द, नरेन्द्र शर्मा, मधुबाला ज़वेरी और सुधा मल्होत्रा जैसी हस्तियों से मिल चुका हूँ। सभी के साथ बिताए हुए पल मुझे कभी नहीं भूलेंगे।

सुमनजी संगीतकार हेमन्त कुमार का आटोग्राफ लेते हुए

गजेन्द्र: एक आखिरी प्रश्न , लता जी के अलावा आपके संग्रहालय में कितने फनकारों के रेकार्ड हैं?

सुमनजी: उनकी फरहिस्त काफी लम्बी है पर इसे नई पीढ़ी की जानकारी के लिए बता ही देते हैं ताकि वह उन भूले-बिसरे नामों को जान सके।

गजेन्द्र: अनमोल फनकार से बातचीत के लिए धन्यवाद सुमनजी।

सुमनजी द्वारा दी गई फनकारों के नामों की फरहिस्त ये रही:-

  1. अब्दुल अज़ीज़ खान
  2. अनीता मज़ूमदार
  3. अमीरबाई कर्नाटकी
  4. अलाउद्दीन खान
  5. उस्ताद अमीर खान
  6. उस्ताद अमजद अली खान
  7. अब्दुल कादर चाऊस
  8. अल्लादिया
  9. अम्बर कुमार
  10. अभय राम भगत
  11. अनुपम घटक
  12. अख्तरी बाई (बेगम अख्तर)
  13. अंजनी बाई लोलेकर
  14. अजम बाई कोल्हापुरी
  15. अमीर जान पानीपत
  16. मि. अंगूरवाला
  17. अनीस खातून
  18. अब्दुल खान कव्वाल
  19. आगाफेज
  20. आरती सन्याल
  21. अहकदी बेगम चोपड़ा
  22. अब्दुल रेहमान काँचवाला
  23. उस्ताद अली अकबर खान
  24. अनथनाथ बासे
  25. अकबर खान
  26. अनबरी जान
  27. अजगरी जान
  28. अजीज प्रेम राणी
  29. अजीज नाजा
  30. असीता बोस
  31. मि. अच्छन
  32. अनिमा दासगुप्ता
  33. आशा भोंसले
  34. आभारानी वर्मा
  35. अनवर
  36. अनूप जलोटा
  37. अहमद हुसैन
  38. मोहम्मद हुसैन
  39. ए आर कबीर
  40. अरविंद पारिक
  41. अशहिश खान
  42. उस्ताद अल्लारक्खा
  43. आनन्द शंकर
  44. उस्ताद अली अहमद हुसैन
  45. डॉ अनीता सेन
  46. उस्ताद अहमद जान थिरकवा
  47. अंजली बेनर्जी
  48. ए हरी हरण
  49. अब्दुल हलीम जाकरखान
  50. अशर्फी खान
  51. अनुराधा पोड़वाल
  52. भारती बोस
  53. बीना चौधरी
  54. बनी सरकार
  55. बी एस नानजी
  56. बिनोता चक्रवर्ती
  57. मिस तदरन
  58. निशा बेगम
  59. बी एन बाली
  60. प्रो भीमसेन चटर्जी
  61. पं बालमुकुन्द भास्कर
  62. बड़े गुलाम अली खान
  63. बद्री प्रसाद
  64. बेनर्जी बाई जयपुर
  65. मि. बाऊ जोधपुर
  66. बलवंत बंसल
  67. बशीर कव्वाल
  68. बिब्बो
  69. बी बी बसु
  70. बाल गंधर्व
  71. बच्चा सुल्तान कव्वाल
  72. मास्टर बसंतराज
  73. पं भीमसेन जोशी
  74. बीना देवी
  75. बेला साँवर
  76. ब्रज भूषण काबरा
  77. बुद्धादित्य मुखर्जी
  78. बहादुर खान
  79. भूपिन्दर
  80. उस्ताद बरकत अली खान
  81. बिनापनी मुखर्जी
  82. भारत कुमार पाठक
  83. चन्द्रमोहन
  84. चिमनलाल
  85. पंडित चाँद नारायण
  86. सी रामचन्द्र
  87. पंडित आर सी व्यास
  88. सी एच आत्मा
  89. चाँद कुमारी
  90. मिस चन्दा
  91. छम्मी बेगम
  92. सी राजगोपालाचारी
  93. चाँद राम
  94. चन्दू आत्मा
  95. चिता दत्त
  96. छाया गाँगुली
  97. मास्टर चन्द्रमोहन
  98. चिट्टी बाबू
  99. दिलीप कुमार रॉय
  100. मा दीनानाथ मंगेशकर
  101. कुमारी धन्नबाज़
  102. पंडित दिनकर
  103. दिलरुबा बेगम
  104. दिलराज कौर
  105. डी वी पलुस्कर
  106. डैनी डेनज़ोगपा
  107. एम एल वसंत कुमारी
  108. उस्ताद फय्याज़ अहमद खान
  109. मास्टर फिरोज़ दस्तूर
  110. फिरोज़ा बेगम
  111. फाकिर आलम इकबाल
  112. प्रो इनायत खान
  113. मास्टर फख्ररुद्दीन
  114. फिदा हुसैन
  115. फूलाजी बुआ
  116. इमाम बक्ष कव्वाल
  117. इस्माइल आज़ाद
  118. इन्दराबाई वाडकर
  119. ईरा मजूमदार
  120. ईला घोष
  121. इन्दूबाला
  122. गुलाम अली
  123. घनश्याम वासवानी
  124. मिस गुल बानू
  125. मिस गौहर जान
  126. जी एन जोशी
  127. गंगूबाई हंगल
  128. गीता दत्त
  129. जी एम दुर्रानी
  130. गौरी दासगुप्ता
  131. पंडित गौस्वामी नारायण
  132. गौरी केदार
  133. उस्ताद गुलाम अली खान
  134. गायत्री बोस
  135. मिस गौहर बीजापुर
  136. घनश्याम जैन
  137. गजानन्द कर्नाटक
  138. गुलाम मुस्तफा
  139. प्रो गोविंद गोपाल मुखोपाध्याय
  140. गुलाम कादिर
  141. गंगाप्रसाद
  142. गिरजा देवी
  143. उस्ताद गुलाम हुसैन खान
  144. हैदरी जान
  145. हुस्न बानो
  146. मिस हरीमति
  147. हैदर शाह पार्टी
  148. हीराबाई बरोडकर
  149. हबीब पेन्टर
  150. हेमन्त कुमार
  151. हिरेन्द्रनाथ चट्टोपाध्याय
  152. हबीब अली मोहम्मद
  153. हबीब कव्वाल
  154. हफीज़ खान
  155. हुसैन भाई
  156. हीराबाई जावरा
  157. हरिओम शरण
  158. हेमलता
  159. हमीद परवाना कव्वाल
  160. उस्ताद हुसैन बख्श
  161. हनुमान प्रसाद
  162. हीरादेवी मिश्रा
  163. जगमोहन
  164. जद्दनबाई
  165. जानी बाबू कव्वाल
  166. जे एल रानाडे
  167. मिस झरना देवी
  168. जानकी बाई
  169. श्रीमति ज्योत्सना मेहता
  170. जमीलाबाई अलाहाबाद
  171. मि जयशंकर जोधपुर
  172. जयप्रकाश घोष
  173. जगजीत कौर
  174. जमाल उर्थाव
  175. जमीला बेगम दिल्ली
  176. ज्यूथिका रॉय
  177. जया बोस
  178. ज्ञान प्रकाश बोस
  179. खान साहब अब्दुल करीम खान
  180. कलंदर आज़ाद
  181. कुमार गंधर्व
  182. खानसाहब नसीर मोइन्नूद्दीन डागर
  183. कुसुम
  184. करीमदाद खान
  185. खातून जान
  186. कमलेश लता
  187. उस्ताद करामात उल्ला
  188. केसर आज़ाद बदायूनी
  189. कमला झारिया
  190. केसरबाई केरकर
  191. के एल अग्निहोत्री
  192. मास्टर कृष्णराव
  193. के सी डे
  194. कृष्णा शिन्दे
  195. कौशल्या देवी
  196. कमल बारोट
  197. कमल सागेकर
  198. कल्लन मेरठ
  199. कल्लू कव्वाल
  200. मिस कल्याणी
  201. कुन्दनलाल सहगल
  202. कानन देवी
  203. कनिका बनर्जी
  204. कामिनी देवी
  205. किसनलाल हैदराबाद
  206. कमलराय
  207. मि किरन शशी
  208. केबला
  209. किशोर कुमार
  210. किशोरी अमोणकर
  211. खालिद
  212. कृष्णादेवी
  213. कनीजबाई अलाहाबाद
  214. मीना कुमारी
  215. एम एस सुबलक्ष्मी
  216. मुबारक बेगम
  217. मनीषा गीर
  218. मोहम्मद याकूब
  219. मोहम्मद रसीद खान
  220. मोहम्मद समीद खान
  221. मुनव्वर मासूम कव्वाल भोपाल
  222. मीनू पुरुषोत्तम
  223. मकबूल अहमद साबरी
  224. मो असलम साबरी
  225. मेहदी हसन
  226. महेन्द्र पाल
  227. मीना कपूर
  228. मास्टर मुकुन्द
  229. मा मुमताज़
  230. मि मेहबूब जान शोलापुर
  231. मथुरा बेनखरे
  232. मुकुल रॉय
  233. मलकाजान
  234. मास्टर मदन
  235. मेहमूद हैदराबादी
  236. मोजू कव्वाल
  237. मोहम्मद हुसैन
  238. मुनीकुमार देसाई
  239. मोइन्नुद्दीन अहमद
  240. मिस माला
  241. मिराजुद्दीन
  242. मुगाबाई
  243. मुज़फ्फर खान
  244. महेश कुमार
  245. लक्ष्मीबाई बड़ौदा
  246. पंडित लक्ष्मण शर्मा
  247. मा लच्छीराम
  248. ललिता देवी
  249. श्रीमती लीला कव्वाल अलाहाबाद
  250. प्रो लक्षमण राव चव्हाण
  251. लालू भाई
  252. लता मंगेशकर
  253. ललिता चटर्जी
  254. लक्ष्मी शंकर
  255. लाडली देवी
  256. मा ललित
  257. ललिर गुरबारा
  258. उस्ताद लताफल हुसैन
  259. पं मलिकार्जुन मंसूर
  260. मधुरानी
  261. मनहर
  262. एम ए राउफ
  263. मोहम्मद खान
  264. एम डी रामानाथन
  265. मोहिन्दर जीत सिंह
  266. मुलीबाई केतकीवाली
  267. महेन्द्र चोपड़ा
  268. मालिनी राजूरकर
  269. मुनव्वर अली खान
  270. मुनव्वर सुल्ताना
  271. मोहम्मद रफी
  272. मन्ना डे
  273. मुकेश
  274. मनोहर कदम
  275. कु मीरा चटर्जी
  276. निसार हुसैन बड़ौदा
  277. मा नवल झालावड
  278. नसीम अख्तर
  279. प्रो नारायणराव व्यास
  280. नीरा बोस
  281. नज़र हुसैन
  282. निर्मला देवी
  283. निज़ाकर अली
  284. सलामत अली
  285. नबीजाम
  286. नसीम बाबू
  287. नज़ीर अहमद कव्वाल
  288. नन्ही चाँद आगरा
  289. पंडित नत्थू लाल
  290. एन एल पुरी
  291. नर्गिस
  292. निरंजनादेवी
  293. नवोवक्ष
  294. नूरजहाँ
  295. नायाब हुसैन
  296. नगीनाजान
  297. नूरजहाँ बेगम जयपुर
  298. नरेन्द्र चंचल
  299. नसीम
  300. नसीम बानो चोपड़ा
  301. निखिल चटर्जी
  302. नत्थू सिंह तोमर
  303. नाज़िया हसन
  304. ओम व्यास
  305. ओंकारनाथ ठाकुर
  306. मिस पटवर्धन
  307. पीर साहेब
  308. प्यारू कव्वाल
  309. पुरुषोत्तमदास जलोटा
  310. पंकज मिश्र
  311. मि पन्ना मुज़्ज़फरपुर
  312. पंडित गणपतराव जोशी
  313. पन्नालाल घोष
  314. मि पंचुबाला
  315. प्रेमराम
  316. मिस पुतली
  317. पियारी जान
  318. प्रभात मुखर्जी
  319. प्रतोष सले
  320. प्रतिभा बेनर्जी
  321. पुष्पा हंस
  322. प्रतिमा बनर्जी
  323. पुष्पा पगधरे
  324. परवीन सुल्ताना
  325. प्रहलाद शिन्दे
  326. परवीन सबा
  327. प्रीति सागर
  328. पनति देवी
  329. पंडित जसराज
  330. प्रभा अत्रे
  331. पंकज उदास
  332. पंकज मल्लिक
  333. प्रभा भारती
  334. परवेज़ मेहन्दी
  335. पंडित रविशंकर
  336. राजकुमारी
  337. रोशनआरा बेगम
  338. राधाबाई सूरत
  339. आर एन शर्मा
  340. रमेश गुप्ता
  341. रामनाथ
  342. मिस बदरो
  343. रज़िया बेगम
  344. मि रशीद
  345. प्रो रहमत खान
  346. पंडित रन पिया
  347. प्रो रामानंद शर्मा
  348. आर प्रेमलता
  349. राधारानी
  350. मि रेखाबाई सागौर
  351. रफीका बेगम जयपुर
  352. रसूलन बाई बनारस
  353. पंडित राधेश्याम
  354. रिया साहब
  355. रूपकुमारी
  356. रेखा मलिक
  357. रामप्यारी
  358. राधिका मोहन मिश्रा
  359. राम मराठे
  360. रामकृष्ण बुआ
  361. रौशन अली हैदराबाद
  362. रज़िया जान
  363. रानी
  364. रुपलता
  365. पंडिता राधेलाल
  366. रशीद
  367. पंडित राधेलाल
  368. रशीदचाँद कव्वाल
  369. मा राहत
  370. खान साहब रहीमुद्दीन डागा
  371. रसूलनबाई बनारस
  372. रूना लैला
  373. रशीदा खातून
  374. रेणू व विजया चौधरी
  375. स्थूनाथ सेठ
  376. रजब अली खान देवास
  377. रेशमा
  378. रशीद हीरा कव्वाल
  379. राजकुमारी रिज़वी
  380. इन्द्रानी रिज़वी
  381. रेणुका
  382. रीता गाँगुली
  383. राजेन्द्र मेहता
  384. नीना मेहता
  385. पंडित रसिक लाल
  386. शंकर दासगुप्ता
  387. सविता
  388. टी सूर्यकुमारी
  389. सुचित्रा मित्रा
  390. शमशाद बेगम
  391. सुन्दराबाई
  392. संध्यारानी
  393. सितारा बेगम
  394. सुनील कुमार
  395. शाहज़ानबाई
  396. कु शीला सरवर
  397. सीतादेवी
  398. शकुन्तलाबाई यालगीकर
  399. एस एल पुरी
  400. सुमति
  401. शंकराबाई
  402. बेबी सुरैय्या
  403. शिव-हरि
  404. शिवनाथ एन्डपाते
  405. मि सितारा
  406. मास्टर सदाशिव
  407. शैलेष कुमार
  408. शेख कव्वाल
  409. सुरेन्द्र
  410. शान्ता आपटे
  411. एस बलबीर
  412. सचिन देव बर्मन
  413. स्नेहप्रभा प्रधान
  414. शंकरराव गायकवाड़
  415. सवाई गंधर्व
  416. एस बी जान
  417. सूफी कव्वाल
  418. शंकर शम्भू
  419. सोहराब जी
  420. पंडित समता प्रसाद
  421. शोभा गुर्तू
  422. सुमन कल्याणपुर
  423. सुमित्रा लहरी
  424. शारदा
  425. सलीम चिश्ती
  426. शमीम बाबू
  427. सगीर भारती
  428. सुधीर फड़के
  429. सुशील कुमार
  430. सुरेश वाडकर
  431. रामाबाबू
  432. सलमा आगा
  433. शैलेन्द्र सिंह
  434. शकुन्तला श्रीवास्तव
  435. शिप्रा बोस
  436. शारदा सिन्हा
  437. शारदा
  438. श्यामल मित्रा
  439. सादत अशरफ
  440. शब्बीर कुमार
  441. सुलक्षणा पंडित
  442. शशी विश्वमोहन भट्ट
  443. शमीम अहमद
  444. सुनन्दा पटनायक
  445. सोनाली जलोटा
  446. शेख कव्वाल
  447. शिव प्रसाद
  448. शान्ता मुखर्जी
  449. मि शांती हीरानन्द
  450. मि सुशीलारानी पटेल
  451. मि सुशीला तांबे
  452. सुधा बेनर्जी
  453. सुधा मल्होत्रा
  454. सुधीरा कमल
  455. शंकरराव व्यास
  456. शंकरराव खाटू
  457. शिवदयाल बतीश
  458. सत्या चौधरी
  459. मि सुल्ताना
  460. सुभान जौनपुरी
  461. श्याम कुमार
  462. एस कुमार
  463. कु शीला बोस
  464. शमीबाई
  465. शीला सरकार
  466. तलत मेहमूद
  467. शकीला बानू पुनार्वा
  468. शकीला बानू भोपाल
  469. सतिनाथ
  470. शबीर हसन
  471. श्यामलाल
  472. मा सोमन
  473. सिकन्दर कव्वाल
  474. तालिम हुसैन
  475. तब्बस्सुम बानू
  476. त्रिदिव औ रेवा
  477. तेजपाल सिंह
  478. सुरेन्द्र सिंह
  479. सुरिन्दर कौर
  480. तलत अज़ीज़
  481. उदित नारायण
  482. उमराज़िया बेगम
  483. श्रीमति उषारानी
  484. उषा खन्ना
  485. उषा मंगेश्कर
  486. उमा देवी
  487. उषा तिमोथी
  488. युसुफ आज़ाद
  489. छोटा युसुफ
  490. उस्ताद फय्याज़ अहमद खान
  491. उषा सेठ
  492. विद्यानाथ सेठ
  493. उस्ताद विलायत हुसैन
  494. विश्वदेव चटर्जी
  495. वासन्ती
  496. विष्णुपंत पगनीस
  497. मा बसन्त सूरज
  498. विजय कुमार
  499. मा बसन्त अमृत
  500. वाणी जयराम
  501. व्ही सी जोग
  502. विषणी मल्होत्रा
  503. वंदना वाजपेयी
  504. मिसेज़ विश्नीलाल

नोट: यह फरहिस्त अधूरी है और इसके अलावा गायक गायिकाओं के रेकार्ड भी वहाँ उपलब्द्ध हैं। नामों में सारी त्रुटियाँ मेरी (गजेन्द्र) की हैं।

 

Share

Translate Page

English French German Hindi Italian Portuguese Russian Spanish Urdu
You are here:   HomeSpecialsInterviewsरेकॉर्ड संग्रहकर्ता सुमन चौरसिया जी के साथ गजेन्द्र खन्ना की विशेष बातचीत
| + - | RTL - LTR